FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

‘IRRFAN KHAN’ का ये पत्र पढ़कर आंखें नम हुए जा रहीं हैं..

जिंदगी पर भारी एक मर्ज से लड़ते हुए अपनी फिल्में पूरी करने में लगे इरफान खान (IRRFAN KHAN) ने जो पत्र मीडिया तक पहुंचाया है उसकी आवाज़ दिल तक जा रही है….

0 694

अपनी एक्टिंग से अपनी काबिलियत साबित करनेवाले बेहद शानदार और वर्सेटाईल एक्टर इरफान खान (IRRFAN KHAN ) पिछले एक साल से एक बेहद गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं….हालांकि बीते कुछ वक्त में उनमें काफी सुधार आया है और वो बॉलीवुड में भी वापसी करने की तैयारी कर रहे हैं….लेकिन अभी भी उनके रिक्वरी का सफर जारी है और इसी बीच उन्होने अपने मीडिया के सहयोगियों और दोस्तों के नाम एक खुला खत लिखा…
इरफान लिखते हैं…


“बीता कुछ वक्त मेरे लिए बेहद अहम रहा है….ये मेरा सफर रहा है खुद को संभालने और समझने, जिसे आप लोग Road to Recovery कहते है….ये सफर और इसका रास्ता इतना आसान नहीं है…ये वक्त है जब बीमारी की थकान से लड़ने के साथ रील और रियल की दुनिया की वास्तविकता समझने का….मैं आप लोगों की चिंता और फ्रिक को समझता हूं…आप सब मुझसे बात करना चाहते है, मेरी जर्नी जानना चाहते है….लेकिन इस वक्त मैं खुद अपने इस वक्त ही गहराई समझने की कोशिश कर रहा हूं….खुद छोटे-छोटे कदमों से अपनी हीलिंग और काम के बीच एक तरह का संयोजन बनाने की कोशिश कर रहा हूं….
आप सबकी फ्रिक, चिंता और दुआओं ने मुझे बेहद गहराई तक छुआ है….मेरे और मेरे परिवार के लिए आपकी ये प्रार्थनाएं बहुत मायने रखती है….मैं आप सब का दिल से शुक्रिया अदा करता हूं कि आप लोगों ने मेरी इस बीमारी को समझने और उससे निकलने के लिए वक्त दिया और सब्र रखा….
मैं आप सबके साथ कुछ साझा करना चाहता हूं…मैंने अपनी जिंदगी की सीमाओं के चक्रों को उनकी हद तक जिया है, जो कि पृथ्वी-आकाश तक फैली हुई है….हालांकि शायद मैं अंतिम चक्र को पूरा ना कर पाऊं, लेकिन मैं ये कोशिश करता रहूंगा…मैं भगवान के आदिकाल तक चक्कर लगाने की कोशिश करता रहूंगा…मैं दस हजार साल का लंबा चक्कर लगाता हूं…हालांकि मुझे अबतक ये नहीं पता कि मैं बाज हूं, तूफान हूं या फिर अधूरा गीत- रिल्के….

Leave A Reply

Your email address will not be published.