FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच
Browsing Category

World Cinema

ईरान के संवेदनशील फिल्मकार माजिद मजीदी की फिल्मों पर बात बगैर बरान (BARAN) के पूरी नहीं हो सकती...ये एक ऐसी फिल्म है जिसमें उस कोमल भावना की बात की गई है जिसकी वजह से इस दुनिया में जीने की वजह बची हुई है। 2001 में रिलीज माजिद मजीदी की इस फिल्म की खूबसूरती बयां कर रहें हैं लेखक और फिल्मकार विमल चंद्र…
Read More...
Avengers: Endgame  के साथ ही Marvel के cinematic universe के तीसरे फेज का अंत हो गया....और शुरू होगा MCU का चौथा फेज....जिसमें कुछ सीक्वल तो कुछ प्रीक्वल तो शायद कुछ नए कैरेक्टरों का इंट्रोडक्शन हो सकता है....तो चलिए आपको बताते है कि चौथे फेज में किन-किन फिल्मों की तैयारी है.... Spiderman- Far…
Read More...
'द कलर ऑफ पैराडाईज', 'बरान', 'द चिल्ड्रेन ऑफ हैवेन' और 'फादर' जैसी अर्थपूर्ण और संवेदनशील फिल्में होते हुए भी ईरान के नामचीन निर्देशक माजिद मजीदी की फिल्म 'द साँग ऑफ द स्पैरोज' (आवाज-ए-गोंजेश्क-हा) इस मायने में उनकी सबसे खूबसूरत फिल्म है कि यहाँ जो सपना है वो इतना नाजुक और पवित्र है कि उसे थोड़ी
Read More...
मुझे ये फिल्म देखते वक्त जिस बात का ख्याल सबसे पहले आया वो था कि क्या जैसे हॉलीवुड के फिल्मकार कई वर्षों से अश्वेतों पर हुए अत्याचार, उनके नागरिक अधिकारों पर संवेदनशील तरीके से महत्वपूर्ण फिल्में बना रहे हैं वैसे भारतीय फिल्मकार बंटवारे के बाद भारतीय मुसलमानों पर उसी संवेदनशीलता से फिल्में बना
Read More...
जोश भर जाता है….गुस्से में मुठ्ठियां भींच कर हम दांत पीसने लगने लगते हैं….ऐसा लगता है जैसे बदले की आग वाकई हमारे ही अंदर जल रही है….कसम से मिल जाए थैनोस तो उसे एक मुक्के में खत्म कर दें…इतनी आग हमारे अंदर भर जाती है…एवेंजर्स एंड गेम का दूसरा ट्रेलर देखते हुए कुछ ऐसा ही मुझे भी महसूस हुआ…लगा
Read More...
The Color of Paradise और Father पर ये लेख लिखा है विमल चंद्र पाण्डेय ने.. वैसे तो माजिद मजीदी की हर फिल्म पर बहुत लिखा गया है और लिखा जाना चाहिए लेकिन इन दो फिल्मों पर एक साथ बात करने को मन इसलिए करता है क्योंकि इनमें काफी कुछ कॉमन है। दोनों फिल्में पिता और पुत्र के संबंधों के कई आयामों पर
Read More...