FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

CINEMA SECRETS : एक शख़्स के जागते रहने के कारण पाथेर पांचाली को दुनिया ने पहचाना

0 202
CINEMA SECRETS  में आज बात सत्यजीत रे की पाथेर पांचाली की. साल 1955 में रिलीज हुई सत्यजीत रे की महान फिल्म ‘पाथेर पांचाली’ से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा फिल्मसिटी वर्ल्ड आपके सामने लेकर आया है. आप सभी जानते हैं कि पाथेर पांचाली को ऑस्कर में भेजा गया था. लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि वहां ज्यूरी को फिल्में दिखानी पड़ती हैं जो फिल्म की योग्यता का निर्णय लेती है. पाथेर पांचाली जो कि भारत की तरफ से ऑस्कर में भेजी गई थी उसके ज्यूरी स्क्रीनिंग के समय 7 निर्णायकों के दल में से केवल एक सदस्य आन्दे वाजा ने पूरी फिल्म देखी थी और उनके बाकी साथी सो गए थे. दरअसल उस वक्त भारतीय फिल्मों को सुबह 10 बजे का शो दिया जाता था. देर रात तक दावतों और पार्टियों में शरीक होने वाले ज्यूरी मेंबर सुबह के शो में ऊंघते रहते थे और कई बार इस वजह से अच्छी फिल्मों को सम्मान तो छोड़िए उनकी चर्चा तक नहीं होती थी. पाथेर पांचाली देखने के बाद आन्द्रे वाजा ने अपने साथियों निवेदन किया वे कॉफी पी लें और तरोताजा होकर इस फिल्म को दुबारा देखें.फिल्म सभी ज्यूरी ने फिर से देखी और एक मत से इसे श्रेष्ठ फिल्म माना. ‘पाथेर पांचाली’ सत्यजीत रे की पहली फिल्म थी और सिनेमा में उनके योगदान को नवाजने ऑस्कर उनकी दहलीज तक आया था.

Leave A Reply

Your email address will not be published.