FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

OSCAR FLASHBACK 2018 : फैंटम थ्रेड

0 806

ज़रा सोचिए..आपको चाहने वाला आपको बीमार देखना चाहता है..इस कदर बीमार कि आप मर जाने की हालत में पहुंच जायें..और आपकी इस हालत जिसका जिम्मेदार भी वो ख़ुद है..उसके बावजूद आपकी देखभाल करे और ये सब करने के पीछे का जब खुलासा करे तो आप हैरान रह जाएं। अगर आप सब्र के साथ फैंटम थ्रेड को देखेंगे तो क्लाईमैक्स में आकर आपको फिल्म की सारी परतें..सारी गुत्थी सारा थ्रिल सारा रहस्य सबकुछ एक धागे में गुथा मिलेगा..और इसी के साथ ये अपने नाम को सार्थक कर देगी। डायरेक्टर पॉल थॉमस एंडरसन और एक्टर डेनियल डे लेविस की जुगलबंदी की ये दूसरी फिल्म है। इससे पहले दोनों ने देयर विल बी ब्लड में साथ काम किया और देयर विल बी ब्लड वो फिल्म है जिसके लिए अपने करियर में मिले तीन ऑस्कर पुरस्कारों में से दूसरा बेस्ट एक्टर का एकेडमी खिताब साल 2007 की इस फिल्म के लिए मिला। फैंटम थ्रेड खास है क्योंकि ये डेनियल डे लेविस की बतौर एक्टर आखिरी फिल्म है जिसका ऐलान वो पिछले साल कर चुके हैं।


फिल्म फैंटम थ्रेड कहानी है रेनॉल्ड वुडकॉक की जो कि लंदन के प्रतिष्ठित फैशन डिज़ायनर हैं..उनके डिजायन किये गाउन बड़े बड़े परिवारों की महिलाएं पहनतीं हैं। रेनॉल्ड का अपने काम के लिए दीवानापन इस हद तक है कि वो अपने काम करने के वक्त किसी तरह की बातचीत न तो खुद करते हैं और न ही आस पास के लोगों को किसी तरह की हरकत की इजाजत देते हैं..उनके काम करने के वक्त ब्रेड पर बटर लगाने तक की हरकत कोई नहीं कर सकता। उनके इस काम में उनके मैनेजर और सलाहकार की भूमिका निभाती हैं उनकी बहन . रेनॉल्ड को अपने कपड़ों की टेस्टिंग के लिए..एक लड़की की तलाश है और वो कई लड़कियों को काम पर रखकर हटा चुके हैं क्योंकि वो वो उनके जुनून के मुताबिक सही नहीं साबित हुईं…उनकी खोज आकर रुकती है एक महिला वेटर पर । एक दोपहर जब वो किसी कॉफी शॉप में कॉफी पी रहे होते हैं तो उन्हे लगता है कि कॉफी देने वाली वेट्रेस का शरीर उनके पहनावों की टेस्टिंग के लिए सबसे मुफ़ीद है। लेकिन उन्हे सिर्फ शरीर से ही नहीं अपने मन के मुताबिक भी ऐसी लड़की चाहिए जो उनके जुनून और काम में चुपचाप बगैर सवाल किये उनका साथ दे। वो एल्मा को डिनर डेट के लिए पूछते हैं और इसी के साथ उसे अपनी विशेष टीम का हिस्सा बना लेते हैं।

शुरुआत में एल्मा उनकी उम्मीदों पर खरी उतरती है लेकिन जैसे जैसे वो रेनॉल्ड के करीब होती जाती है उन पर अधिकार समझने की भूल कर बैठती है। रेनॉल्ड के व्यवहार की ये समस्या है कि वो अपने काम से ज्यादा किसी को तवज्जो नहीं देता , भले ही सामने वाले को एक पल कभी लगा हो कि वो भी रेनॉल्ड के लिए जरूरी है। रेनॉल्ड का जूनून और अपने आस पास की व्यवस्थाओं यहां तक की रिश्तों को भी अपने नियंत्रण में लिये रहने की आदत एल्मा के लिए घुटन भरी होने लगती है। हालांकि रेनॉल्ड को तब एल्मा की जरूरत सबसे ज्यादा होती है जब वो बीमार या किसी तकलीफ़ में होता है। रेनॉल्ड की जिन्दगी में उसकी मां की मौत एक बुरे सपने की शक्ल में बार बार आती है..और वो इस रहस्यमयी दुनिया को अपने डिजाइन में भी गूंथ देता है। दूसरी ओर एल्मा रिश्ते में फिर से अपनी अहमियत बढ़ाने के लिए रेनॉल्ड की चाय में खराब नस्ल की मशरूम मिला देती है..बीमार रेनाल्ड मरते मरते बचता है क्योंकि उसकी देखभाल करने में भी एल्मा कोई कसर नहीं छोड़ती।

स सेवा भाव और प्रेम की बदौलत रेनाल्ड एल्मा से शादी कर लेता है। लेकिन किसी का बेसिक नेचर बदला नहीं जा सकता ..नतीजतन रेनॉल्ड को लगने लगता है कि एल्मा उसके काम में अड़चन बन रही है। वो उससे अलग होने के फैसला करता है और ये बात जानकर एल्मा उसके ऑमलेट में फिर से खराब मशरूम मिला देती है मगर इस बार ऑमलेट खाने से पहले वो रेनॉल्ड को ये बात बता भी देती है। बस मैं इसके आगे कुछ नहीं बता सकता …..

फैंटम थ्रेड की खासियत है इसका धीरे धीरे रहस्यमयी तरीके से आगे बढ़ना जिसमें निर्देशक चाहता है कि आप बहुत सी बातों का अंदाज़ा लगाते रहें मगर फिल्म का माहौल आपको ज्यादा कुछ सोचने से रोकता भी है तो जो निर्देशक ने आपके लिए तैयार रखा है वहां तक आपकी सोच जा नहीं सकती। दूसरी सबसे खास बात  किरदार और उनको निभाने वाले एक्टर्स, डेनियल डे लेविस की आखिरी फिल्म बतौर एक्टर तो आप सोच सकते हैं किसी बेहतरीन एक्टर की जिन्दगी की आखिरी फिल्म जिसे उसने खुद आखिरी चुना हो उसमें उसका अभिनय किस उच्चतम स्तर का होगा। एल्मा के रूप में विकी क्रीप्स फिल्म की जबरदस्त खोज हैं, वो कमाल का मैनरिज्म लाती हैं..उनका बर्ताव मेन प्रोटेगनिस्ट के बर्ताव की प्रतिक्रिया है तो उनके उपर जिम्मेदारी ज्यादा थी कि वो विश्वसनीय लगें जबकि उनके सामने डेनियल डे लेविस जैसा महान कलाकार खड़ा था। छोटे मगर महत्वपूर्ण किरदारों में रेनॉल्ड की बहन सीरिल के किरदार में लेस्ली भी आपको याद रह जायेंगी। बेहतरीन कैमरावर्क, कहानी का मद्धम चढ़ने वाला नशा और थ्रिलर फिल्मों से भी ज्यादा कमाल क्लाईमैक्स, फैंटम थ्रेड को लंबे अरसे तक जहन में अटक जाने वाला सिनेमा बनाते हैं। मेरी ओर से पांच में से 4 स्टार्स।

Leave A Reply

Your email address will not be published.