FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

SUPER DELUXE HINDI REVIEW : भारत में भी बनतीं हैं वर्ल्ड क्लास फिल्में

निर्देशक थ्यागराजन की सुपर डीलक्स ले जाती है आपको जिन्दगी की गहराई में..राजनीति के रसातल में, कराती है सिस्टम के सबसे घिनौने स्वरूप का दर्शन, रिश्तों में नैतिकता कितनी सहूलियत भरी बाते हैं वो भी खुलकर साफ साफ बताती है…कितनी जल्दी हम हो

Notebook फिल्म रिव्यू : कश्मीर के दिल में बैठ मोहब्बत भरी डायरी लिखने वाली फ़िल्म

फिल्म -नोटबुक निर्देशक- नितिन कक्कर कलाकार - जहीर इकबाल, प्रनूतन बहल, मीर मोहम्मद महरूस, मीर सरवर आदि। रेटिंग - 4/5 निर्देशक नितिन कक्कड़ की फिल्म नोटबुक को वैसे तो परंपरागत प्रेम कहानियों से अलग होना ही ख़ास बना देता है लेकिन जो बात

देखिए ग्रीन बुक….क्योंकि ये हमें अच्छा इंसान बनने में मदद करती है…

मुझे ये फिल्म देखते वक्त जिस बात का ख्याल सबसे पहले आया वो था कि क्या जैसे हॉलीवुड के फिल्मकार कई वर्षों से अश्वेतों पर हुए अत्याचार, उनके नागरिक अधिकारों पर संवेदनशील तरीके से महत्वपूर्ण फिल्में बना रहे हैं वैसे भारतीय फिल्मकार बंटवारे के

लगान, स्वदेस और जोधा अकबर जैसी महान फिल्में असर छोड़ पायीं इस शख्सियत की वजह से !

खबर है कि लगान, स्वदेस और जोधा अकबर जैसी मास्टरपीस बनाने वाले निर्देशक आशुतोष गोवारिकर श्री महिला गृह उद्योग के लिज्जत पापड़ के सफ़र पर फिल्म बनाने वाले हैं…फिलहाल वो पानीपत की तीसरी लड़ाई पर फिल्म बनाने में व्यस्त हैं जिसका नाम भी

फिल्म आंधी के 44 साल : जब गुलज़ार को प्रतिबंध से बचने के लिए फिर से शूट करनी पड़ी फिल्म

13 फरवरी 1975 को गुलज़ार निर्देशित आंधी भारतीय सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई…प्रदर्शन से पहले ही उस वक्त ये गहरे विवाद से गुजरी …हल्ला उठा कि ये फिल्म उस वक्त भारत की प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी के जीवन पर आधारित थी…दक्षिण भारत में लगे

World Cinema Babel: सही और ग़लत सच में कुछ नहीं

“Babel” के शाब्दिक अर्थ की ओर जायें तो मतलब किसी तरह की गड़बड़ी या शोरगुल से होता है। एक ऐसी परिस्थिति जहां बहुत सारी आवाज़ें या ध्वनियां साथ में मिलकर कुछ भी स्पष्ट ना कर पा रही हों। ठीक ऐसी परिभाषा की तरह बैबल फिल्म भी ढेर सारे कथानकों

OSCAR FLASHBACK 2018 : फैंटम थ्रेड

ज़रा सोचिए..आपको चाहने वाला आपको बीमार देखना चाहता है..इस कदर बीमार कि आप मर जाने की हालत में पहुंच जायें..और आपकी इस हालत जिसका जिम्मेदार भी वो ख़ुद है..उसके बावजूद आपकी देखभाल करे और ये सब करने के पीछे का जब खुलासा करे तो आप हैरान रह

रोमन पोलांस्की वाली द घोस्ट राइटर

      ये वो फिल्म है जिसे रोमन पोलांस्की ने बनाया है,,क्या नाम नहीं बताया मैने..वो मैने हेडर में लिख रखा है..”THE GHOST WRITER” साल 2010 में आयी थी शायद, अब साल के लिए मैं जाके गूगल नहीं करना चाहता बस देखना चाहता हूं कि मुझे याद है कि…