FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

Movie Review Karnan : झकझोर कर रख देने वाली फिल्म है कर्णन

साउथ सुपरस्टार धनुष की हाल ही में आई तमिल फिल्म कर्नन को लेकर मेरी पहली राय. ये रियल है, ये काफी रॉ है..सही मायनों में ये उस भारत की असली तस्वीर पेश करती है जो गांवों में बसता है और जहां अभी भी कुछ बदला नहीं हैं...हालांकि भले ही ये खास समय…

सदाशिव अमरापुरकर की अपने गांव को लेकर क्या थी ख्वाहिश जो रह गई अधूरी ?

अहमदनगर जिले के शेवगांव तालुका का अमरापुर गांव अभिनेता सदाशिव अमरापुरकर का पैतृक गांव है। हालांकि इस गांव को अमरापुरकर ने महज पांच साल की उम्र में ही छोड़ दिया था इसके बावजूद उनके बचपन की कई यादें आज भी इस गांव में मौजूद है। सदाशिव ने अपनी…

Ford v Ferrari : दो लोग जो सही मायने में एक टीम थे

डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर एक फिल्म है समय निकालकर देख लीजिएगा. फिल्म का नाम है फोर्ड वर्सेज फरारी (Ford v Ferrari)  2 घंटे 34 मिनट की इस फिल्म की कहानी सिर्फ फोर्ड और फरारी की रेसिंग की दुनिया में वर्चस्व की जंग नहीं है बल्कि ये कहानी है…

Birth Anniversary : डॉक्टर श्रीराम लागू (Shriram Lagoo) जिन्होंने 42 साल की उम्र में रखा एक्टिंग में…

कुछ कलाकार अपने सफर और अदाकारी दोनों में दुर्लभ होते हैं. Shriram Lagoo उन्हीं में से एक थे. उनकी जीवन किसी प्रेरणा से कम नहीं. डॉक्टरी छोड़ एक्टिंग और नाटकों की दुनिया में रम जाने वाले इस महान कलाकार को फिल्मसिटी वर्ल्ड याद कर रहा है.

Movie Review : कैसी है गुंजन सक्सेना द कारगिल गर्ल ?

गुंजन सक्सेना को लेकर मेरी पहली राय...मुझे फिल्म बहुत पसंद आई..सिर्फ इसलिए नहीं की ये सच्ची कहानी हल्कि इसलिए क्योंकि ये बहुत इमानदार किस्म की फिल्म है...तो सबसे पहले मैं अपने रिव्यू के जरिए अपनी पहली ही फिल्म ढंग से बनाने वाले निर्देशक शरण…

Movie Review : दर्शकों का हाथ थामे शकुंतला देवी की यात्रा पर ले जाती हैं Vidya Balan

आज की हमारी फिल्म है विद्या बालन स्टारर शकुंतला देवी. जो कहानी है ह्यूमन कंप्यूटर के नाम से मशहूर शकुंतला देवी की. तो फिल्म में मुझे क्या अच्छा लगा सबसे पहले ये जान लेते हैं.. - मुझे विद्या बालन की एक्टिंग काफी पसंद आई - फिल्म का लुक…

Movie Review : नेटफ्लिक्स की फिल्म ‘रात अकेली है’ की खास बातों की गिनती नहीं

रात अकेली है जिसे डायरेक्ट किया है फर्स्ट टाइम डायरेक्टर हनी त्रेहन ने..वो इससे पहले फिल्मों की कास्टिंग का काम करते थे..तो सबसे पहले फटाफट से जान लेते हैं कि फिल्म में मुझे अच्छा क्या लगा.. - फिल्म की कहानी मुझे बहुत पंसद आई - फिल्म का…

पुण्यतिथि विशेष: रवि बासवानी जिनकी दहलीज तक सिनेमा खुद चलकर आया

जाने माने कलाकार रवि बासवानी की आज पुण्यतिथी है. हम में से ज्यादातर लोग मरहूम रवि जी को अलग अलग वजहों से याद कर सकते हैं. जिसमें बड़ी संख्या उन लोगों की होगी जो उन्हें चश्मे बद्दूर, जाने भी दो यारों या दूरदर्शन के सीरीयल इधर उधर से याद कर…