FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

फिल्म आंधी के 44 साल : जब गुलज़ार को प्रतिबंध से बचने के लिए फिर से शूट करनी पड़ी फिल्म

13 फरवरी 1975 को गुलज़ार निर्देशित आंधी भारतीय सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई…प्रदर्शन से पहले ही उस वक्त ये गहरे विवाद से गुजरी …हल्ला उठा कि ये फिल्म उस वक्त भारत की प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी के जीवन पर आधारित थी…दक्षिण भारत में लगे

World Cinema Babel: सही और ग़लत सच में कुछ नहीं

“Babel” के शाब्दिक अर्थ की ओर जायें तो मतलब किसी तरह की गड़बड़ी या शोरगुल से होता है। एक ऐसी परिस्थिति जहां बहुत सारी आवाज़ें या ध्वनियां साथ में मिलकर कुछ भी स्पष्ट ना कर पा रही हों। ठीक ऐसी परिभाषा की तरह बैबल फिल्म भी ढेर सारे कथानकों

OSCAR FLASHBACK 2018 : फैंटम थ्रेड

ज़रा सोचिए..आपको चाहने वाला आपको बीमार देखना चाहता है..इस कदर बीमार कि आप मर जाने की हालत में पहुंच जायें..और आपकी इस हालत जिसका जिम्मेदार भी वो ख़ुद है..उसके बावजूद आपकी देखभाल करे और ये सब करने के पीछे का जब खुलासा करे तो आप हैरान रह

रोमन पोलांस्की वाली द घोस्ट राइटर

      ये वो फिल्म है जिसे रोमन पोलांस्की ने बनाया है,,क्या नाम नहीं बताया मैने..वो मैने हेडर में लिख रखा है..”THE GHOST WRITER” साल 2010 में आयी थी शायद, अब साल के लिए मैं जाके गूगल नहीं करना चाहता बस देखना चाहता हूं कि मुझे याद है कि…