FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

प्रसिद्ध लेखक और कॉलमनिस्ट शोभा डे ने पौरुषपुर कलाकारों के साथ किया ‘बैटल ऑफ जेंडर’ होस्ट!

0 21

स्केल और विशालता के साथ, इन दिनों दर्शकों का ‘पौरशपुर’ नामक शो के साथ मनोरंजन किया जा रहा है जहाँ लिंग भेद की लड़ाई को दर्शाया गया है और यह शो ऑल्ट बालाजी पर स्ट्रीमिंग के लिए उपलब्ध है। एक महाकाव्य काल्पनिक नाटक, पौरशपुर में लैंगिक भेदभाव, शाही विश्वासघात, डबल स्टैंडर्ड, वासना, लालच और शक्ति जैसे ज्वलंत मुद्दों पर बात की गई है।

पौरशपुर के लिए जबरदस्त प्रशंसा प्राप्त करने के बाद, ऑल्ट बालाजी ने शो से मिलिंद सोमण, पोलोमी दास, साहिल सलाथिया, अनंतविजय जोशी, आदित्य लाल, कशिश राय और अश्मिता बख्शी जैसे शानदार कलाकारों के साथ ‘बैटल ऑफ जेंडर’ पर एक डिबेट का आयोजन करने का फैसला किया है।

लोकप्रिय कॉलमनिस्ट-लेखक शोभा डे द्वारा संचालित, इस डिबेट में लैंगिक मुद्दों के बारे में बातचीत को दर्शाया गया है जिसमें मेडीवल पीरियड में प्रचलित शो की कास्ट और वर्तमान समय के बीच तुलना की गई है।

अत्यधिक आकर्षक और इंटरैक्टिव डिबेट की शुरुआत, शोभा डे की मेजबानी के साथ हुई। लैंगिक असमानता, वेतन असमानता, पुरुष पितृसत्ता और समान-लिंग प्रेम के बारे में कई आवश्यक सवालों को पूछते हुए, यह डेबिट निश्चित रूप से बड़ा और शानदार साबित हुआ है। वही, कास्ट से मिले जवाब और चौंका देने वाले खुलासों ने सभी को हैरान कर दिया।

Check the link here- https://youtu.be/R9C2CliDaWo

*शो में अपने तीसरे लिंग किरदार के बारे में बात करते हुए, मिलिंद सोमन कहते हैं*, “हमें निश्चित रूप से डर था जब हमने इस चरित्र को स्टीरियोटाइप करना शुरू किया था। हमने तीसरे लिंग का अब तक अन्य रिप्रजेंटेशन देखा है और उनमें से कुछ को स्टीरियोटाइप किया गया है। इसलिए, मैं कहूंगा कि बोरिस एक सनकी किरदार है। वह अपनी इच्छानुसार कपड़े और आभूषण पहनता हैं। बोरिस खुद को पुरुष के रूप में संदर्भित करता है, लेकिन वह एक पुरुष या महिला नहीं है। इसलिए, इसके पीछे आईडिया बोरिस के मानवीय पहलू में जाना था, और वह महिलाओं के प्रति भेदभाव के खिलाफ लड़ता है क्योंकि उसने खुद इसका सामना किया है। ”

*शो में बोरिस के साथ नृत्‍यगुरु के रूप में समानांतर कहानी रखने वाले साहिल कहते हैं*, ”हमने एलजीबीटी समुदाय का बहुत सम्मान के साथ पेश करने की कोशिश की है। यदि आप किसी अन्य पुरुष के प्रति सेक्सुअल प्रेफरेंस के रोमांटिक झुकाव को देखते हैं, तो यह बहुत ही शानदार तरीके से किया गया है। दुर्भाग्य से, हम लोगों को बक्से में रखना पसंद करते हैं और लोगों से बाहर कैरिकेचर बनाना पसंद करते हैं। आपकी कामुकता आपके अस्तित्व का एक छोटा सा हिस्सा है और यह आपके दोस्तों, शौक आदि के बारे में है, इसी तरह पौरशपुर की दुनिया में, शो में मिलिंद के साथ मेरा विशेष समीकरण उनके जीवन का एक हिस्सा है और इसके पीछे के रहस्य को जानने के लिए, आपको यह शो देखना होगा।”
उस युग में महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों के बारे में बात करते हुए, अश्मिता कौर बख्शी ने सूचित किया, “मैं अपने चरित्र का संदर्भ लेना चाहूंगी, जो मैंने शो में निभाया है। वह अपने पति, जो कि राजा है, द्वारा शारीरिक रूप से दुर्व्यवहार का शिकार बनती है और यह इसलिए नहीं कि वह उसकी पत्नी है बल्कि वह महिलाओं पर मेल डोमिनेन्स दिखाना चाहता है। हां, पौराशपुर के संदर्भ में, मेल डोमिनेन्स दिखाया गया है, और महिलाओं को सेक्स ऑब्जेक्ट के रूप में माना जाता है। पौराशपुर का क्लाइमेक्स आपको राज्य की रानियों के लिए चीयर करने के लिए मजबूर कर देता है। ”

पौरशपुर के एपिसोड अब ऑल्ट बालाजी पर स्ट्रीमिंग के लिए उपलब्ध है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.