FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

INTERVIEW ANANYA PANDAY : पापा की तरह हमेशा पॉजिटिव रहना चाहती हूं

स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2 से ड्रीम डेब्यू करने वाली ANANYA PANDAY से खास बातचीत की हमारे रिपोर्टर शौनक जैन ने।

0 666

रिपोर्टर- आपने कॉफी विद करण में कहा था कि आप इस काउच पर बैठने की हकदार नहीं हुईं हैं.. तो फिर फ़िल्म में आप अपना काम कैसे जस्टिफाई करती हैं?

अनन्या-  जो मैंने काउच पर कहा था उससे मैं सहमत हूँ। ऐसे कई और लोग हैं जो मुझसे ज़्यादा मेहनती और टैलेंटेड हैं। मुझे लगता है कि मैने भी ऑडिशन दिया और बेस्ट देने की कोशिश की..मैं बस एक बात यकीन दिला सकतीं हूं कि इतनी मेहनत करूँगी कि सबको कह सकूं कि करण का मुझमें विश्वास सही है। ये मेरा बचपन से सपना रहा है कि मैं सर के साथ काम करूं और मैं शुक्रगुज़ार हूँ कि मुझे इसका मौका मिला और मेैं किसी को भी दुखी नहीं करना चाहती हूँ या आपने पापा से कुछ नहीं लेना चाहतीं हूँ। उनके नाम और सम्मान को ठेस नहीं पहुंचाना चाहतीं हूँ। मुझे खुद की पहचान बनानी है और अपनी मेहनत से दिखाना है सभी को कि मेैं भी इसकी हकदार हूँ।
रिपोर्टर- आपका ऑडिशन कैसा रहा? जब आप पहली बार कैमरा के सामने आयीं तो आपको कैसा लगा? क्या आप नर्वस थीं?
अनन्या– मेरे ऑडिशन में मैंने एक रोने वाला सीन किया और एक बुरी एडिट्यूड वाली लड़की का सीन किया जो पुनीत ( फिल्म के डायरेक्टर)  को काफी अच्छे लगे।सबसे पहले हमने एक गाना शूट किया और पुनीत ने हमे हमारे पहले शॉट में अकेला रहने दिया। शूट के पहले बारिश होने लगी और तारा और मेैं बहुत परेशान हो गए जैसे कि हमारा पहला शॉट कभी होगा ही नहीं..पर जब सीन हुआ तो मुझे पता ही नहीं चला कैसे हो गया.. बाद में मुझे लगा कि “oh my god” मैने अपनी ज़िन्दगी का पहला शॉट दे दिया और अब मैं सच में एक अभिनेत्री हूँ।
रिपोर्टर- पुनीत ने हमें बताया कि कैसे तारा और आप फ़िल्म सेट पर बहुत अच्छे दोस्त बने। ज़्यादातर ऐसा सुनने में नहीं आता.. अभिनेत्रियों में ‘कैटफाइट्स’ होना स्वाभाविक है, पर स्टूडेंट के सेट्स पर आप दोनो मिलकर टाइगर और पुनीत की बड़ी टांग खींची। कैसा रहा ये अनुभव आपका?
अनन्या- तो हुआ ऐसा था कि मुझे शूटिंग से पहले बहुत लोगों ने कहा कि तारा ने तुम्हारे बारे में ऐसा बोला वैसा बोला और मैने ये सोचा कि मैं इस लड़की से मिली भी नहीं हूँ तो ये क्या बकवास कर रहें हैं। हम सेम एक्टिंग क्लास जाते थे और एक दूसरे से बात करने की मनाही थी तो बस देखते थे एक दूसरे को। पर जब हमने शूटिंग शुरू की, क्योंकि हम उम्र में इतने करीब है, हमें एक दूसरे को समझने में आसानी हुई और क्योंकि ये हमारी दोनो की पहली फ़िल्म थी। टाइगर पहले ही फिल्म्स कर चुके थे और पुनीत सर डायरेक्टर थे तो बचे सिर्फ तारा और मैं। ये हमारे लिए एक महत्त्वपूर्ण बॉन्डिंग पॉइंट था। हम एक साथ मिलकर पुनीत का मज़ाक उड़ाते क्योंकि वो भी हमारी टांग खींचते थे।
रिपोर्टर- टाइगर के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा?
अनन्या-  मैं बहुत लकी हूँ कि मुझे मेरी फर्स्ट फ़िल्म टाइगर के साथ करने मिली क्योंकि इसी फ़िल्म से मुझे पूरी मेहनत करनी पड़ी। मुझे टाइगर के लेवल से मैच करना था तो एक सेकण्ड का भी आराम नही मिला। वो तो शॉट्स के बीच भी प्रक्टिस करते थे तो मेैं कैसे पीछे रहती। मुझे बहुत मज़ा आया और एक यादगार अनुभव था और मेैं शुक्रगुजार हूँ क्योंकि पहली फ़िल्म में ही मैने लेवल-अप कर लिया।
रिपोर्टर – आपको अपनी पहली फ़िल्म में क्या क्या मुश्किलों का सामना करना पड़ा ?
अनन्या- चैलेंजेज थे क्योंकि तारा ने पहले डिज़्नी और टाइगर ने फिल्मों में काम किया है, तो सिर्फ मैं हूँ जो एकदम रॉ और नई हूँ जिसे कुछ नही आता। मुझे कैमरा ऐंगल और फेसिंग के बारे में कुछ नही पता था। पर मुझे ऐसा भी लगता है कि ये एक अच्छी बात है और आशा है की लोगो को मेरी फ्रेशनेस पसंद आये।
रिपोर्टर -आपके पापा का क्या योगदान रहा है आपके एक्टिंग स्किल्स  में?
अनन्या- लोग मुझे ये अक्सर पूछते हैं और मुझे ऐसा लगता है कि पापा ने मुझे कोई एडवाइस नहीं दी है। उन्हें भी लगता है कि उनका समय और इस समय के अभिनय में बहुत अंतर है।वो कभी सेट पर नहीं आये और उन्होंने सबसे पहले मुझे ट्रेलर में ही देखा। उन्होंने मुझे खुद पर भरोसा करने दिया और कोई दबाव नही डाला। मैने उनके बर्ताव से काफी कुछ सीखा है। वो इतने बड़े स्टार रहने के बावजूद कभी नहीं बदले। कभी भी किसी को फोटोग्राफ के लिए मना नहीं करेंगे, सबसे अच्छे से रहेंगे और सभी उनसे प्यार करते है और उनकी पर्सनालिटी के बारे में बताते हैं कि कैसे वो हमेशा खुद पर जोक्स मारेंगे। तो यार एक बात है जो मुझे उनसे सीखनी है, खुद पर हँसना और सब कुछ पॉजिटिवली लेना।
रिपोर्टर -अनन्या आपने करन जौहर से क्या सीखा है? उन्होंने आपसे क्या कहा?
अनन्या-  दरअसल करन फ़िल्म के इतने बड़े हिस्सा नहीं रहे है क्यूंकि उन्हें पुनीत को उनका काम करने की पूरी इजाज़त दी है। हालांकि वो चाहें तो कभी कभी काफी दबाव दे सकते हैं और मुझे पता है कि वो कैसा लगता है। लोगो को लगता है की हम बहुत अच्छे दोस्त हैं, और हम है पर मुझे भी करन से डर लगता है। जब मैं ऑडीशन देने आयी थी करण के सामने तो बहुत डरी हुई थी। खुशकिस्मती से करण रूम में नही थे और उन्होंने बाद में वीडियो देखा। तो करण ने हमे अपना काम अच्छे से करने दिया है।
रिपोर्टर -क्या आप वरुण और सिद्धार्थ के मूवी में नही होने पर निराश हुईं थीं?
अनन्या-  हां! मैं निराश तो हुई थी। मेैं वरुण की बहुत बड़ी प्रशंसक हूँ। वे मेरे वॉलपेपर थे और मेैं उनके साथ काम करने के लिए बड़ी एक्ससिटेड थी।
रिपोर्टर-विल स्मिथ के साथ शूटिंग करना कैसा रहा
अनन्या– ये बहुत ही कूल फीलिंग थी… इतना कि इसके बाद वरुण और सिद्धार्थ को भूल ही गयी। सब इतने उतावलेपन से उनका इंतेज़ार कर रहे थे और फिर वो आये। और Woww! एक अलग ही एनर्जी लाये और वह इतने अच्छे और प्यारे व्यक्ति है। बड़ा मजा आया उनके साथ।
रिपोर्टर -आपको आज के किस अभिनेता का कैरियर ग्राफ सबसे ज़्यादा पसंद है?
अनन्या-  पक्का आलिया का! मुझे जिस तरह से वो आगे आयीं है उससे बड़ा प्यार है। वो भी शुरू में फ्रेश और रॉ थी और लोगो ने उन्हें बेहतरीन अभिनय करते हुए देखा है। मुझे भी ऐसे ही आगे बढ़ना है और चाहती हूँ कि लोग भी मुझे देखे मेहनत करते हुए और बढ़ते हुए।
रिपोर्टर -आपको  पापा की कौन सी फिल्म पसंदीदा है ?
अनन्या – आँखे पक्का। और मेरा पसंदीदा गाना होगा लाल दुपट्टे वाली।और मुझे उनकी नई फिल्मे भी पसंद है जैसे हाउसफुल्ल और अन्य कॉमेडी जो वो करते है।
रिपोर्टर  -आप आपके स्टूडेन्ट दिनों में कैसी थीं?
अनन्या – मेैं तो एक ऐसी लड़की थी जो थोड़ी पढ़ाकू भी थी। मैं अभी भी वैसी ही हूँ मुझे लगता है और मेरा किरदार भी वैसा है और में कॉलेज तो गयी नही तो मैं स्टूडेंट के ज़रिये अपनी कॉलेज की ज़िन्दगी जी रही हूँ। तारा गयी है, आपको उससे सामान्य ज्ञान के सवाल पूछने चाहिए।
इसी तरह की।
रिपोर्टर – आपकी पहली फ़िल्म अभी आने वाली है और दूसरी की शूटिंग चालू  है?
अनन्या– बहुत ही अमेजिंग फीलिंग  है पति पत्नी और वो में काम करना। जूनो चोपड़ा जो प्रोड्यूसर है उन्होंने कुछ शॉट्स देखे इस फ़िल्म के और पसंद आये उन्हें तो मुझे ये फ़िल्म मिली। ये स्टूडेंट से बहुत अलग है। हमने सिर्फ 3 दिन की शूटिंग की है अभी और बाकी बाद में होगी। मुझे ये मुश्किल लगा क्योंकि मेरी फ़िल्म अभी आयी नही है और इसीलिये में ये नही जानती की लोगो को क्या पसंद और नापसंद है। इसीलिए मैने स्ट्रगल किया और ऐसा लगा कि मैं अभी भी मेरी पहली फ़िल्म पर काम कर रही हूँ.. और कार्तिक के साथ काम करने में बहुत माज़ा आया क्यूंकि वो एक इतने सेल्फ़्लेस अभिनेता है। वो कभी भी मेरे लाइन्स ज़्यादा या कम है पर ध्यान नही देते, उन्हें बस सीन को बेहतरीन बनाना है और वो मुझे मेरी लाइन्स के साथ मदद करते है। में बहुत उत्साहित हूँ।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.