FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

INTERVIEW SARA ALI KHAN:मैने खुद जाकर रोहित शेट्टी सर से मांगा था काम

0 85

  रणवीर सिंह और सारा अली खान की फिल्म Simmba आज रिलीज हो गई…डायरेक्टर रोहित शेट्टी ने ये फिल्म अपने स्टाइल और फ्लेवर की तरह ही बनाई है….फिल्म के प्रमोशन को लेकर पूरी टीम जोर-शोर से लगी रही…और वहीं सुपरएक्साईटेड सारा अली खान ने सिम्बा के अपनी दूसरी फिल्म होने के नाते मीडिया से की थोड़ी बातचीत और थोड़ी गपशप….इसी बातचीत ब्यौरा आप तक लेकर आयी हैं हमारी सीनियर राइटर प्राची उपाध्याय..

REPORTER-   फिल्म Simmba में आपका कैरेक्टर रियल लाइफ की सारा से कितना अलग है ?

SARA-  मैं अगर मैं अपने real self से compare करूं तो सिंबा में मेरा किरदार थोड़ा सहमा हुआ सा है…हालांकि अगर दूसरे लिहाज से देखा जाए तो वो स्ट्रॉन्ग कैरेक्टर भी है…एक पुलिसवाले की बेटी होने के नाते उसे justice  की value पता है…वो बाकी आम लड़कियों की तरह शूटआउट्स और एनकाउंटर्स से नहीं डरती…

REPORTER- अपनी पहली फिल्म केदारनाथ से लेकर अब अपनी दूसरी फिल्म Simmba तक आप में कॉन्फिडेंस कितना बढ़ा है ?

SARA-  मुझे लगता है कि हर एक पिक्चर का एक अलग अनुभव होता है…सेट पर अलग लगता है, शूट के दौरान अलग लगता है, प्रमोशन में अलग लगता है…तो मुझे बिलकुल भी ऐसा नहीं लगा कि हां अब मुझे काम आता है और अब आसान होनेवाला है…Infact situation was more  contrary to it…दरअसल पहली फिल्म में ये रहता है कि actual expectations नहीं होती क्योंकि किसी ने कुछ देखा नहीं होता है पहले…तो आप कुछ भी expect कर सकते हैं…लेकिन दूसरी फिल्म में प्रेशर बढ़ जाता है…लोगों की आपसे उम्मीदें बढ़ जाती है….

REPORTER-  रोहित शेट्टी ने बताया कि आप फ्यूचर की सुपरस्टार हैं और साथ ही लकी..क्योंकि एक ही महीने में आपकी दो फिल्में रिलीज हो रही…

SARA-  मैं गट्टू सर( अभिषेक कपूर) को बहुत ग्रेटफुल हूं कि उन्होने मुझे मेरी पहली फिल्म केदारनाथ दी…लेकिन मैं उतनी ही ग्रेटफुल रोहित सर को भी हूं कि उन्होने मुझे तब मौका दिया जब इंडस्ट्री में कोई मेरी तरफ नहीं देख रहा था…क्योंकि मैं यहां नई हूं, एक ही फिल्म आई है केदारनाथ…तो आपने अबतक मेरा कोई खास देखा ही नहीं…तो कोई क्यों मुझे काम देगा…लेकिन रोहित सर ने मुझे ये पिक्चर दी और मौका दिया…तो अब तो दोगुना प्रेशर है….

Team Simmba

REPORTER-   एक्टिंग स्किल को लेकर कौन ज्यादा क्रिटिकल है, आपकी दादी शर्मीला टैगोर या आपकी मां अमृता सिंह या करीना कपूर या फिर आपके पापा सैफ अली खान ?

SARA-  Honestly मुझे लेकर कोई भी बहुत ज्यादा क्रिटिकल नहीं है…सब बहुत प्यार से समझाते है मुझे…शायद आगे जाकर थोड़े क्रिटिकल हो जाए…लेकिन पहली बार में मुझे नहीं लगता कोई ज्यादा प्रेशर देना चाहता था…वैसे भी मैं उनकी फैमली हूं तो ये हो ही नहीं सकता कि वो मेरे काम को unbiased तरीके से ना देखें…लेकिन उनके पास और लोगों के मैसेज्स आ रहे है कि उन्हें मेरा काम अच्छा लगा…

REPORTER- आपकी दादी और आपकी मां अपनी बोल्डनेस के लिए जानी जाती रही है….तो क्या आपके लिए कोई रूल्स है कि इस तरह सीन्स नहीं करने या ऐसे कपड़े नहीं पहनने….

SARA- देखिए मैं अभी बहुत नई हूं…तो मेरे पास ना कोई तजुर्बा है और ना ही को तकनीक कि ये ऐसे करेंगे और वो वैसे…मैंने दो बहुत ही अलग-अलग पिक्चर की है दो बहुत ही अलग लोगों के साथ…तो अभी कोई भी तरीका मुझमें बैठा नहीं है…मेरे पास जो है अभी, वो है conviction…तो अगर आप मुझे कैरेक्टर के लिए या स्क्रिप्ट के लिए convince  कर सकते हो, तो उसी conviction पर मैं काम कर सकती हूं…

REPORTER- सारा आपने कहा कि आप बचपन से ही एक्टर बनाना चाहती थी…तो आपका inspiration कौन था, आपकी दादी या आपकी मां ?

SARA- Inspiration तो सभी है आज भी है कल भी रहेंगे….लेकिन inspiration शब्द बोलने से मैं डरती हूं…क्योंकि इनके जैसा कोई बन नहीं सकता…लेकिन मैं एक die hard मतलब पागल जैसी श्रीदेवीजी की फैन हूं…मतलब कोई कैसे विश्वास कर सकता है कि जिसने चालबाज की है उसी ने सदमा की है….मतलब wow…औऱ शाबाना आजमीजी की भी मैं बहुत बड़ी फैन…उनकी फिल्में जैसे अर्थ, मासूम और स्पर्श मैं बार-बार देखती हूं…

REPORTER- सारा आपका रणवीर और रोहित के साथ एक्सपीरियंस कैसा रहा ?

SARA- बहुत ही उम्मदा…मैं उनके काम के बारे में कुछ नहीं बोल सकती क्योंकि मैं बहुत नई हुं और वो बहुत पुराने है….उन दोनों से बेहतर इंसान मैंने नहीं देखे, क्योंकि जिस शिद्दत से वो अपने काम पर फोकस करते हैं…उन्होने सेट पर अपने स्टार होने का attitude कभी भी नहीं जताया…और सिर्फ मेरे से नहीं बल्कि सेट पर मौजूद हर किसी के लिए फिर चाहे वो लाइटमैन हो या फिर स्पॉट बॉय या गर्ल…और रोहित सर इतने अच्छे इंसान है और अपनी पूरी यूनिट को इतने अच्छे से लीड करते हैं…

REPORTER- फिल्म के साथ-साथ आपकी भाषा की भी चर्चा हो रही है…कितनी अच्छी तरह से आप हिंदी और उर्दू बोल रही है तो उस बारे में आप क्या कहेंगी…क्योंकि कई स्टार्स हैं जो हिंदी में fluent नहीं होते, इंटरव्यू नहीं दे पाते ?

SARA-  मुझे लगता है कि comfort की बात भी होती है…अंग्रेजी मुझे थोड़ी limiting लगती है…मतलब अगर मैं कुछ कहना चाहती हूं उसके लिए वो ही शब्द इस्तेमाल कंरू जो करना चाहिए, बावजूद इसके कई बार वो बात उस तरह से एक्सप्रेस नहीं हो पाती जैसे हम चाहते हैं…और दूसरी बात ये कि हम हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में काम करते है तो मेरी कोशिश ये ही है कि मैं हिंदी में सोचूं और हिंदी में ही अपनी भावनाएं जाहिर कर सकूं….क्योंकि अगर आपके सोच-विचार हिंदी में होंगे, तो बोलने में भी आसानी होगी…वैसे ही सब इतना अलग है आप नए सेट पर नए लोगों के साथ, नए कैरेक्टर में हो और उसमें भी अगर भाषा पर भी काम करना पड़े तब तो फिर हो चुका काम….

REPORTER- आप बहुत honest रही ये बताने में कि आप खुद गई काम मांगने…बावजूद इसके कि आपके पापा सैफ अली खान का इतना बड़ा नाम है इंडस्ट्री में…

SARA-  बात पापा के बड़े नाम की नहीं है….बात मेरी है, मैं कौन हूं…मैं कुछ नहीं हूं…मैं जो कुछ होंगी आप लोग बनाएंगे और मैं मेहनत करूंगी और शायद से बन जाऊंगी…इसमें रूबाब किस बात का, काम चाहिए मुझे, क्यों नहीं मांगूगी…

REPORTER- सारा 21 दिन के अंदर आपकी दो फिल्में आ गई…तो आप इसको किस लिहाज से देखती है ?

SARA-  देखिए मुझे ऐसा लगता है कि एक वक्त के बाद ये चीजें मायने नहीं रखती…अगर आपका काम सच्चा हो तो एक आए दो आए तीन आए, एक महीने में दो महीने में डेढ़ साल में आए, कोई फर्क नहीं पड़ता…आपको बस मेहनत से अपना काम करना पड़ेगा क्योंकि वो आपका काम है…आपके हाथ में तो कुछ नहीं है तो क्या फायदा ये सब सोचकर…

REPORTER-  आज के दौर में बॉलीवुड की अभिनेत्रियों के लिए हॉलीवुड के दरवाजे खुल गए है…तो  अगर आपको मौका मिलेगा तो आप वहां काम करेंगी ?

SARA- देखिए सर आप बहुत आगे निकल गए…मैंने बोला ना किताब दी गई और बोला गया है कि पढ़ो…तो अभी पढ़ने तो दीजिए…मेहनत करूंगी और इंशाअल्ला फिर देखते हैं आगे…

REPORTER-  आपने सुशांत के साथ काम किया और फिर रणवीर के साथ…तो दोनों एक्टरों के साथ काम करने में आपने क्या difference महसूस किया…

SARA- काफी अलग था…सेट अलग था, कैरेक्टर अलग था…सुशांत के साथ केदारनाथ मेरी पहली फिल्म थी और उन्होने मेरी बहुत मदद की एक मेंटर के तौर पर…खासकर मेरी हिंदी अच्छी करने में….वहीं रणवीर एक inspiration थे…उनको देखकर, उनका काम देखकर, टेक से पहले की रिहर्सल, फोकस…सब जानते है कि रणवीर में बहुत एनर्जी है लेकिन वो उसको सही तरह से यूज करते हैं…तो मुझे उनसे वो सीखने को मिला…

REPORTER-  इस साल आपके साथ-साथ जान्हवी कपूर ने भी इंडस्ट्री में डब्यू किया है…तो आप जान्हवी को लेकर क्या कहना चाहेंगी…

SARA- देखिए न्यूतकमर होने के नाते मैं उनका प्रेशर समझ सकती हूं…और मेरे हिसाब से उन्होने outstanding काम किया है…मैंने धड़क देखी है और मुझे वो बहुत पसंद आई…मैं अपने काम को समझती हूं वो अपने काम को और हम दोनों एक दूसरे के काम को समझते हैं…वैसे ही हम उनके काम को भी समझते हैं जो ये comparision करते है क्योंकि ये उनका काम है…

Leave A Reply

Your email address will not be published.