FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

डॉ. अनिल मुरारका ने समाज के शूरवीरों का किया सम्मान

अनिल का एंपल मिशन लगातार ऐसे शानदार प्रयासों में जुटा है

हौसले और जूनृून से सोची न सक पाने वाली मिसाल कायम करने वाले समाज के हिम्मती लोगों को अनिल मुरारका ने ‘शूरवीर अवॉर्ड’ से सम्मानित कर औरों को भी इस राह पर चलने की प्रेरणा दी।

0 1,397

हर किसी के पास सोच होती है, बस जरूरत है उसे सही दिशा में लगाने की। डॉक्टर अनिल मुरारका का एंपल मिशन इसी बेहतरीन सोच का नतीजा है जो समाज के सच्चे शूरवीरों का सम्मान करता है उन्हे आगे लाकर लोगों को उनकी राह पर चलने की जिद का मौका देता है। मुंबई की एक शाम शूरवीर अवार्ड्स के नाम रही लेकिन ये शूरवीर बॉर्डर पर लड़ने वाले नहीं बल्कि अपने मुश्किलों और मजबूरियों पर विजय प्राप्त कर जिन्दगी की लड़ाई जीतने वाले थे। इन्ही शूरवीरों को अनिल जी ने सम्मानित किया और मीडिया से बातचीत में कहा कि ये काम करने की प्रेरणा उन्हे अपने साथ हुए एक हादसे ने दी जिसके बाद उन्होने जिद पकड़ ली कि वो ऐसा कुछ करेंगे जो समाज के लिए मिसाल हो। अनिल मुरारका ने अपने संकल्प एवं दृढ़ इच्छाशक्ति के बल पर ‘ऐम्पल मिशन’ के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को समय पर सहायता पहुंचाई, आदिवासी इलाकों में स्कूलों को गोद लिया, अनाथ एवं दिव्यांग बच्चों की देखभाल तथा असहाय बालिकाओं की शिक्षा का जिम्मा उठाया, युवा प्रतिभाओं के सपनों को ऊंची उड़ान दी, वृद्धाश्रम एवं श्मशान गृह की सुचारू व्यवस्था और मेडिकल कैम्पों का आयोजन कर पुण्य कमाया। पर्यावरण की रक्षा के लिए बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण का अभियान चलाया। प्रभावकारी शॉर्ट फिल्में बनाकर युवा पीढ़ी को गुटखा, धूम्रपान एवं आत्महत्या के खिलाफ कड़ा संदेश दिया, जबकि वाघा बोर्डर पर जाकर देश के बहादुर फौजियों का हौसला बढ़ाने की हिम्मत दिखाई और जीवन में जांबाजी की असाधारण मिसाल कायम करने वाले साधारण लोगों को ‘शूरवीर अवॉर्ड’ से सम्मानित कर औरों को भी वीरता की प्रेरणा दी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.