FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

Fadeout Stars: जिन्हें भूल गया बॉलीवुड

2 45

 बॉलीवुड की चका-चौंध से भरी दुनिया हमेशा से लोगों को अपने तरफ आकर्षित करती आई है…लेकिन शोबिज की इस दुनिया में हर कोई अपनी पहचान बनाने में उतना सक्सेसफुल नहीं होता है…और अगर हो भी गया तो उसको मेनटेंन करना भी अपने आप एक अलग ही जद्दोदहद है…अगर आप अपनी सफलता को सही तरीके नहीं भुना पाए तो आप को बड़े पर्दे से गायब होने में वक्त नहीं लगता…और आज हम आपको ऐसे ही कलाकारों के बारे में जो अपनी फिल्मों के जरिए लोगों के दिलों पर छाने के बाद बड़े पर्दे से अचानक गायब हो गए….

  1.  Ruby Myers (Sulochana)

                                           बॉलीवुड के शुरूआती दौर में साइलैंट फिल्मों की सुपरस्टार कही जानी वाली सुलोचना उर्फ रूबी मेयर्स बोलती फिल्मों के आने के बाद बॉलीवुड से गायब हो गई…सुलोचना साइलैंट फिल्मों के वक्त अपनी खूबसूरती के कारण लोगों के दिलों पर छाई थी….लेकिन बोलती फिल्मों के आने के बाद वो अपना स्टारडम मेनटेंन नहीं कर पाई….वजह हिंदी नहीं आना….सुलोचना उर्फ रूबी मेयर्स यहूदी थी जो मूलत: बगदाद से ताल्लुक रखती और उनको हिंदी बिलकुल नहीं आती थी…साइलैंट एरा में अपनी खूबसूरती के कारण वो सबसे पॉपुलर और हाईएस्ट पैड एक्ट्रेस थी…लेकिन बोलती फिल्मों के आने के बाद वो बड़े पर्दे गायब ही हो गई….

  • Cukoo Morey

                     60s, 70s और 80s के दौर में हेलन बॉलीवुड की सबसे सैलेब्रटेड डांसर में से एक थी….उनको गानों का क्रेज इस कदर था कि आज भी उनके सिग्नेचर स्टेप्स लोगों में पॉपुलर है…लेकिन हेलन से पहले भी बॉलीवुड में एक बेहद फेमस डांसर हुआ करती थी Cukoo Morey…1940s और 50s के दौर की ये फेमस डांसर की उस वक्त की फिल्मों में काफी मांग थी….और ऐसा बताया जाता है कि उस वक्त वो एक डांस के 6,000 रूपए तक लिया करती थी…लेकिन जैसा कि कहते है कि ग्लैमर की इस दुनिया में सितारें को ना तो उभरते देर लगती है और ना ही डूबते…और ये ही हाल हुआ क्कुकू मौरे का…एक वक्त की सबसे मंहगी डांसर की जिंदगी बेहद गरीबी और तंगहाली में खत्म हुई…आलम ये था कि उनके पास अपनी दवाई खरीदने के भी पैसे नहीं बचे थे…

  • Bharat Bhushan

                आपको मुगल-ए-आजम तो याद ही होगी….उस फिल्म में एक मुर्तिकार था जो अनारकली को एक मूर्ति का रूप बनाकर शंहशाह अकबर के सामने पेश करता है…वो कोई और नहीं बल्कि भारत भूषण थे…बैजू बावरा जैसी फिल्म में मीना कुमारी के साथ काम करने के बाद भारत भूषण को एक बेहतरीन अदकार की श्रेणी में गिना जाने लगा….लेकिन कलर फिल्मों के आने के बाद भारत भूषण को एक बार फिर स्ट्रगल के दौर से गुजरना पड़ा…उन्होने कुछ उम्रदराज किरदार करने की भी कोशिश की…लेकिन वो भी नाकाम साबित हुआ और भारत भूषण को तंगहाली में अपनी बाकी जिंदगी काटनी पड़ी…

  • Bhagwan Dada

                        1956 में आई राज कपूर की फिल्म चोरी-चोरी और उस फिल्म का गाना सवा लाख की लॉटरी…उस गाने में भगवान दादा अपनी गरीबी दूर करने के लिए भगवान से लॉटरी लग जाने की दुआ करते है…लेकिन फिल्म में एक कॉमेडी सॉन्ग के तौर पर ये गाना कब भगवान दादा के जीवन की हकीकत बन जाएगा ये तो शायद उन्होने भी नहीं सोचा था…अपने मजाकिया लहजे और डांसिग स्टाइल के लिए जाने जानेवाले भगवान दादा की एक के बाद एक 25 फिल्में फ्लॉप हो जाने के बाद उन्हें अपना 25 कमरों का बंगला बेचना पड़ा…ये ही नहीं अपनी माली हालत सुधारने के लिए उन्होने फिल्मों में छोटे-छोटे रोल भी किए लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था….जिंदगी के ढलते वक्त में भगवान दादा की जिंदगी मुंबई के एक चॉल में बीती और वहीं उन्होने अपनी आखिरी सांस ली….

  • Nalini Jaywant

                          1940 और 50 के दशक में नलिनी जयवंत का नाम उस वक्त की बड़ी हिरोइनों में शामिल था…1941 में बहन फिल्म से अपनी करीयर की शुरूआत करनेवाली नलिनी जल्द ही बॉलीवुड की एक बड़ी हिरोइन बन गई…अपनी खूबसूरती और बेहतरीन अदायगी के कारण उनके पास फिल्मों की लाइन लग गई…नलिनी उस वक्त की दूसरी हिरोईन शोभना समर्थ की कजन थी….तीन दशक तक इंडस्ट्री में काम करने के बाद नलिनी 60 के दशक में फिल्मों से सन्यास ले लिया….प्रोफेशनल लाइफ में स्टार नलिनी की पर्सनल लाइफ बेहद अकेली और तन्हा थी और इसी तन्हाई को दूर करने के लिए करीब 18 साल बाद उन्होने फिर से फिल्मों में वापसी की…लेकिन एक वक्त पर बॉलीवुड की स्टार हिरोईन रह चुकी नलिनी को अब बॉलीवुड का बदला रैवया रास नहीं आया और वो वापस अपनी तन्हा जिंदगी में लौट गई….बॉलीवुड की बेरूखी का आलम देखिए फिल्मी खानदान से ताल्लुक रखने वाली नलिनी ने जब मौत को गले लगाया तो उनके पास अपना कहनावाला कोई नहीं था…यहां तक की उनके पड़ोसियों को भी तीन दिन बाद उनकी मौत का पता चला…वहीं जीवित नलिनी को भूल चुके इस इंडस्ट्री के लोगों ने मौत के तीन दिन बाद उनकी लाश की सुध ली…

  •  Vimi

           भूल-बिसरे कलाकारों की इस लिस्ट में सबसे ज्यादा दिल तोड़ने वाली कहानी अगर किसी की है तो वो है विम्मी की… 1967 में एक फिल्म आई थी हमराज…जिसमें राजकुमार, सुनील दत्त और एक नया चेहरा विम्मी थे…विम्मी जो अपने वक्त की एक unconventional स्टार थी….उन्होने जब फिल्मों में डेब्यू किया तो वो शादीशुदा और दो बच्चों की मां थी….लेकिन इन सब के बाद भी अपनी अदाकारी और बेपनाह खूबसूरती के कारण वो आते ही लोगों के दिलों-दिमाग पर छा गई…हालांकि उनकी ये सफलता उनके साथ ज्यादा वक्त तक रह नहीं पाई…हमराज के बाद उनकी लगभग सभी फिल्में फ्लॉप होती चली गई…जिससे विम्मी का फिल्मी करियर डूबता चला गया…जिसके बाद विम्मी ने टैक्सटाइल बिजनेस में हाथ आजमाया लेकिन उसमें भी उन्हे बहुत नुकसान हुआ….विम्मी अपने पति से अलग हो चुकी थी और डूबता फिल्मी करियर और फ्लॉप बिजनेस ने उन्हे शराब का आदी बना दिया…ऐसा कहा जाता है कि अपनी शराब की लत के लिए वो प्रॉस्टिट्यूशन तक में इनवॉल्व हो गई थी हालांकि इस बात में कितनी सच्चाई है ये कोई दावे से नहीं कह सकता….लेकिन 1977 में महज 33 की उम्र में विम्मी में मुंबई के नानावटी अस्पताल में दम तोड़ दिया और सबसे ज्यादा दिल को कचोटनी वाली बात ये है कि एक वक्त बेहद आलीशान जिंदगी जीने वाली विम्मी की तंगहाली और तन्हाई का आलम ये था कि उनकी लाश को एक ठेले पर शमशाम ले जाया गया….

  • Achala Sachdev

                         बॉलीवुड की फिल्मों में मां का हमेशा से बेहद अहम रोल रहा है….और ऐसी ही एक फिल्मी मां थी अचला सचदेव…फिल्म वक्त में बलराज साहनी जब अपनी पत्नी के लिए ऐ मेरी जोहरा जबीं गाते है तो एक शर्माती बीवी के तौर पर सबकी आंखों के आगे अचला सचदेव का चेहरा आ जाता है….अपने दौर की सुपरहिट फिल्म वक्त में तीन बिछड़े भाईयों की मां का किरदार निभाने के बाद अचला सचदेव बॉलीवुड की एवरग्रीन मां बन गई…जिन्होने कई फिल्मों में मुख्य किरदारों की मां का रोल निभाया…लेकिन असल जिंदगी में उनके बुढ़ापे में उनके बच्चों ने ही उनसे मुंह मोड़ लिया…2002 में पति की मौत के बाद अचला अकेले ही रह रही थी…इसी दौरान उनके ब्रेन में एक तरह का खून का थक्का जमने के बाद उन्हे पुणे के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया….जहां साल 2012 में उन्होने अकेलेपन के बीच अपनी अखिरी सांस ली…उनका एक बेटा यूएसए और एक बेटी मुंबई में रहते हैं…लेकिन अखिरी वक्त में कोई भी अपना उनके पास मौजूद नहीं था…

  • A.K.Hangal

                    शौले फिल्म का मशहूर डायलॉग   ’इतना सन्नाटा क्यों है भाई’ बोलने वाले ए के हंगल बॉलीवुड के मशहूर कैरेक्टर आर्टिस्ट थे….1914 में जन्मे ए के हंगल ने भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में जमकर हिस्सा लिया…और देश के आजाद होने के बाद उन्होने अपना रूख एक्टिंग की तरफ कर लिया…कुछ वक्त तक बतौर स्टेज आर्टिस्ट काम करने के बाद वो फिल्मों में कैरेक्टर रोल्स करने लगे….उन्होने करीब 225 फिल्मों अलग-अलग तरह के कई छोटे-बड़े किरदार निभाए…लेकिन इतने लंबे वक्त तक बॉलीवुड में सक्रिय रहने बावजूद ए के हंगल की जिंदगी के अंतिम दिन बेहद तंगहाली में बीते…आलम ये था कि आखिरी वक्त में उनके पास दवाईय़ां खरीदने के पैसे भी नहीं थे…हालांकि उनकी कहानी लोगों के सामने आने पर अमिताभ बच्चन, करण जोहर समेत कई फिल्मी हस्तियों ने मदद का हाथ आगे बढ़ाया…साल 2012 में 98 साल की उम्र में उनका निधन हो गया…

  • Raj Kiran

         अर्थ फिल्म का बेहद मशहूर गाना है ‘तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो क्या गम है जिसको छुपा रहे हो’….गाने में अभिनेता राज किरन शबाना आजमी को संभालने की कोशिश करते दिखते है, उनके दुख पर मरहम लगाते दिखते है….लेकिन फिल्म में दूसरों को संभालते-संभालते अभिनेता राज किरन शायद असल जिंदगी में खुद को संभाल नहीं पाए….अभिनेता राज किरन पिछले कई सालों से लापता है…आखिरी बार 1994 में सीरियल रिपोर्टर में नजर आने के बाद राज गहरे डिप्रेशन में चले गए…दरअसल 1975 में अपने करियर की शुरूआत करनेवाले राज किरन लगातार डूबते करियर और पारिवारिक परेशानियों से जूझते-जूझते मानसिक कमजोरी का शिकार हो गए…जिसके बाद उनके परिवार ने उन्हे कुछ वक्त के लिए मुंबई के एक मेंटर हॉस्पिटल में भर्ती कराया…हालांकि कुछ वक्त के बाद वो अमेरिका चले…और उसके बाद से उनके बारे में कहीं कोई जानकारी नहीं थी….साल 2011 में जब एक्टर ऋषि कपूर यूएस गए तो वहां उन्होने राज के भाई से उनके बारे में जानकारी हासिल की…तो उन्होने बताया गया वो अटलांटा के एक मेंटल असाइलम में है…हालांकि उनकी बेटी ने इस को नकारते हुए कहा कि वो कुछ वक्त के लिए वहां जरूर भर्ती थे लेकिन अब वो लापता है….राज किरन की ये कहानी कहीं ना कहीं बॉलीवुड की कई कड़वी सच्चाइयों को उजागर करती नजर आती है…

  1. Parveen Babi

       70 के दशक की सबसे ग्लैमर्स हिरोइनों में एक थी परवीन बाबी….अपनी अट्रैकटिव लुक्स और बोल्ड अंदाज के कारण परवीन उस दौर के हर निर्देशक की पहली पसंद थी….हालांकि प्रोफेशनल लाइफ में सक्सेसफुल परवीन की पर्सनल लाइफ काफी उतार चढ़ाव से भरी रही….अपने करियर के शुरूआत में परवीन का रिश्ता डैनी डोंगजप्पा का साथ रहा….हालांकि ये रिश्ता ज्यादा लंबा नहीं चल सका….जिसके बाद वो कुछ वक्त के लिए कबीर बेदी के भी करीब रहीं….लेकिन यहां भी दोनों का साथ कम समय के लिए ही था….पर्सनल लाइफ में तन्हा परवीन प्रोफेशनल लाइफ में लगातार ऊचाईंया छू रही थी…उस दौर के हर सुपरस्टार के साथ उनकी फिल्में आ रही थी….अमिताभ बच्चन के साथ उन्होने कई सुपरहिट फिल्में दी….लेकिन पर्सनल लाइफ की तन्हाई का असर धीरे-धीरे परवीन पर असर करने लगा था….डैनी और कबीर बेदी के बाद परवीन महेश भट्ट के करीब आई लेकिन ये ऱिश्ता भी उनका साथ नहीं निभा सका….टूटे रिश्ते और तन्हाई ने परवीन के मानसिक हालत पर गहरी चोट की….और उनको Paranoid Schizophrenia डायग्नोस हुआ…जिसके बाद दिन ब दिन उनकी हालत बिगड़ती चली गई….और जिंदगी के अखिरी के कई साल उन्होने अकेले बिताए और एक वक्त पर इस शोबिज की स्टार रही परवीन के बारे में किसी ने कोई सुध नहीं ली…ये हीं नहीं उनकी मौत के दो दिन बाद पड़ोसियों को उनकी मौत की जानकारी हुई….और दो दिन तक उनकी लाश उनके मकान में यू हीं पड़ी रही….

Leave A Reply

Your email address will not be published.

2 Comments
  1. Rishabh Singh Rawat says

    Beautifully written piece 🙂

  2. Pragati says

    👍👍👌👌👌