FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

शिक्षा माफियाओं के संसार में घुसती फ़िल्म ‘सेटर्स’

पवन मल्होत्रा सेटर्स का सबसे बड़ा आकर्षण हैं । कहानी का नयापन व ट्रीटमेंट में वास्तविकता दूसरे बड़े कारण हैं। दो दोस्तों की कहानी में प्रेम व ज़ुर्म का एंगल इसे मनोरंजक बनाता है। आज की पैसा फेंको तमाशा देखो शिक्षा व्यवस्था की कहानी दिखाती…

रवींद्रनाथ टैगोर की अमर कहानी पर बनी ‘अमर’ फ़िल्म

गुरुदेव की बहुत मशहूर कहानी है  'काबुलीवाला। '  यह बांग्ला में लिखी गयी थी। लेकिन जब  बिमल राय ने 1961 में इस कहानी को परदे पर उतारा, तो इसकी शोहरत ने भाषा और क्षेत्र सभी की सीमाएं लांघ दी। काबुलीवाले के पात्र से परिचित होना एक नवीन अनुभव…

एवेंजर्स सीरीज़ की सबसे रोमांचक फ़िल्म

अवेंजर्स एंडगेम को आज के दौर की सबसे रोचक फिल्म कहना गलत नहीं होगा । बुराई के ऊपर अच्छाई की जीत वाली शाश्वत अपील लिए हुई यह फ़िल्म बहोत गहराई लिए हुए है।

ज़ोहरा सहगल की अभूतपूर्व शख्सियत

कई सितारों को मैं जानता हूं  कहीं भी जाऊं मेरे साथ चलते हैं.. रामपुर उत्तरप्रदेश के एक रोहिल्ला पठान परिवार में ज़ोहरा सहगल उर्फ साहबज़ादी ज़ोहरा बेगम का जन्म 27 अप्रैल, 1912 को हुआ। सात बच्चों के परिवार में ज़ोहरा तीसरी संतान थीं।…

अप्रैल में पुण्यतिथि पर शक्ति सामंत को श्रद्धांजलि

हिन्दी एवं बांग्ला फ़िल्मो के सुपरिचित निर्माता-निर्देशक शक्ति सामंत का जन्म वर्धमान (पश्चिम बंगाल) मे हुआ था। परिवार ने प्रारंभिक शिक्षा हेतु उन्हे देहरादून भेजा | पढाई पूरी कर वापस कलकत्ता (कोलकाता) लौटे और कलकत्ता विश्वविद्यालय के ‘कला…

सत्यजीत रे व पंडित रविशंकर के साथ का कलात्मक संयोग

सत्यजीत रे की लिखी वो स्क्रिप्ट जो कभी फिल्म नहीं बन सत्यजित रे की पंडित रवि शंकर को श्रद्धांजलि में लिखी किताब कभी आपकी आंखों से गुज़री क्या? इसे कभी डाक्यूमेंट्री का रूप लेना था लेकिन अफसोस कि सत्यजित के इस काम ने  उजाला नहीं देखा। लेकिन…

नई ज़मीन तलाशती फ़िल्म ‘पहाड़गंज’

राकेश रंजन कुमार की 'पहाड़गंज' विदेशी सैलानी की हत्या की गुत्थी सुलझाती फ़िल्म है । नई दिल्ली स्टेशन से सटे पर्यटक ठिकाने पहाड़गंज के इर्द-गिर्द घूमती है । नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास स्थित इस बस्ती की बारीकियों से दिल्ली वाले भी ख़ास वाकिफ़…

समकालीनता का विजयी रथ ‘काला’

पा रंजीत की ' काला’ आज की राजनीति की महत्वपूर्ण फिल्म है। रजनीकांत की करिश्माई काला कहानी है तिरुनेलवेली के एक गैंगस्टर की जो बाद में धारावी का किंग बन जाता है । वो ताकतवर नेताओं और भू माफियाओं से जमीन की लड़ाई लड़ता है।  हिंसा, शक्ति…