FilmCity World
सिनेमा की सोच और उसका सच

फिल्म आंधी के 44 साल : जब गुलज़ार को प्रतिबंध से बचने के लिए फिर से शूट करनी पड़ी फिल्म

0 759

13 फरवरी 1975 को गुलज़ार निर्देशित आंधी भारतीय सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई…प्रदर्शन से पहले ही उस वक्त ये गहरे विवाद से गुजरी …हल्ला उठा कि ये फिल्म उस वक्त भारत की प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी के जीवन पर आधारित थी…दक्षिण भारत में लगे फिलम के पोस्टर में तो ये तक लिखा था “See your Prime Minister on screen”. दिल्ली डेली ने छापा था “the story of a great woman political leader in post-Independence India”. प्रचार तंत्र और मीडिया की चटपटी खबरों ने ये स्थापिक करना शुरु कर दिया कि ये फिल्म इंदिरा गांधी के जीवन पर ही है।


सबसे हैरान कर देने वाली बात ये थी कि तत्कालीन प्रधानमंत्री ने भले ही ये फिल्म न देखी थी मगर उन्होने अपने स्टाफ मेबर्स को फिल्म की रिलीज़ से पहले इसे देखने को कहा..तय हुआ कि इसके बाद सरकार फिल्म को जनता के सामने आने देने पर विचार करेगी…न सिर्फ इन सदस्यों ने फिल्म देखने के बाद इसे क्लीनचिट दी बल्कि उस वक्त के सूचना और प्रसारण मंत्री इंद्र कुमार गुजराल तक ने फिल्म को पसंद किया..गुजराल ने जोर देकर कहा था कि फिल्म के मुख्य किरदार और प्रधानमंत्री में कोई समानता नहीं है।


लेकिन इन सबके बावजूद फिल्म को लेकर विवाद थमा नहीं..ये बात सही थी कि फिल्म में आरती देवी का किरदार जिस रंग ढंग में पेश किया गया था उसकी बहुत सी बातें इंदिरा जी से मेल खाती थीं मगर वो सिर्फ पहनावे , हेयर स्टाइल तक सीमित था जिसे एक जैसे मानने की भूल की गयी..जिसका फायदा लेने का कुचक्र रचा गया…


फिल्म पर प्रतिबंध की बात तब आयी जब फिल्म 5 महीने सफलतापूर्वक थियेटर्स में चल चुकी थी.. इसकी मूल वजह थी गुजरात में विपक्ष के नेताओं द्ववारा किया गया दुष्प्रचार.. फिल्म में आरती देवी के स्मोकिंग और शराब पीने के सीन्स को चुनावी कैंपेन में इंदिरा गांधी की छवि धूमिल करने के इरादे से जमकर इस्तेमाल किया गया…यही वो वक्त था जब परदे की कहानी और असली जमीन की सच्चाई की रेखा धुंधली होती चली गयी..फिल्म को बैन कर दिया गया..गुलजार को आदेश मिला कि वो इन सीन्स को दुबारा शूट करें..गुलजार ने इस समस्या का समाधान एक नये सीन से निकाला..उन्होने फिल्म को प्रभावित किये बगैर नया सीन जोड़ा जिसमें आरती देवी को इंदिरा के पोस्टर के सामने खड़ा करके डॉयलॉग बुलवाया गया कि इंदिरा मेरी आदर्श हैं। हमें यकीन है कि आजतक आपको फिल्म के बैन होने की इतनी सटीक जानकारी नहीं मिली होगी…अगर आप ऐसी ही दिलचस्प जानकारियां पढ़ना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें..हमारे फेसबुक पेज के साथ साथ ट्विटर और इन्स्टाग्राम पर भी जरूर जुड़ें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.